• jamesriyain 14w

    Maa

    शब्द कहाँ से लाऊँ माँ जिसमें तुम्हारी
    खासियत बता सकूँ कहते है सच्चे प्यार को
    भूला नही सकते सच ही तो कहते है वो पहला
    प्यार तुम ही तो हो माँ, बिन बताए सब तुम
    जान लेती हो, मेरी हँसी के पीछे दुख को भाप लेती हो
    अपनी ख्वाहिश का क़त्ल कर हमेशा अपनी औलादों
    के सपने को पूरा करती हो, बताओ न माँ ये सब तुम
    कैसे करती हो, हमारे लिए हर परेशानी से तुम लड़ती हो
    और फिर भी प्यार कभी ना कम करती हो
    ©jamesriyain