• shad_raza 14w

    यार

    इश्क़ का रोग पाल लेना यार
    ठीक भी हैे बवाल लेना यार

    इश्क़ पेचीदा मसअला निकला
    कुछ न कुछ हल निकाल लेना यार

    शायरी ही मेरा खज़ाना है
    बाद मेरे संभाल लेना यार

    उसकी तस्वीर खाक में न मिले
    मेरी आँखें निकाल लेना यार

    ऐब दूजों में ढूंढने के बाद
    अंदरूं भी खंगाल लेना यार

    काश आँचल बढ़ा के वो बोले
    पोंछ आँसू ,रूमाल ले न यार

    जान ए शादाब चाहिए न तुझे ?
    खींच दस्त ए सवाल, ले न यार

    ©शादाब