• rajneesh036 33w

    नशा नाम का।

    नशा उसके नाम का कुछ यूँ हुआ,
    कब मोहब्बत हुई न कुछ पता हुआ।
    नशा कम नही था यूँ मोहब्बत का,
    कब आशिकी हुई न कुछ पता हुआ।
    निभाया मोहब्बत को पूरी शिद्दत से,
    कब एक तरफा बनी न कुछ पता हुआ।

    ©rajneesh036