• saachirajiv 15w

    कुछ रिश्तों से हुई पचान
    कुछ रिश्तों के ना थे नाम
    कुछ थे मतलब से भरे
    गायब हुए जब निकल गया काम.

    कुछ रिश्तों ने मुझे दी उड़ान
    कुछ रिश्तों ने किया मुझे दफ़न
    कुछ रिश्ते टूटे ऐसे
    डालना पड़ा उनपे कफ़न.

    कुछ रिश्तों ने मेरी आवाज़ बधाई
    कुछ रिश्तों ने शब्दों पे डाला बंधन
    कुछ में इतना सन्नाटा हुआ
    उदास हुआ यह मेरा मॅन.

    कुछ रिश्तों में महसूस हुई सुबह की धूप
    कुछ रिश्तों में अंधेरे का दर्र
    कुछ ने ऐसे दिन दिखाए
    जब ना थी मेरी कोई क़दर.

    रिश्ते होती ही ऐसे हैं
    जो हर दिशा में खीचे
    सुलह करो ऑरा आगे बढ़ो
    बदला लेते लेते रह जाओगे पीछे.

    शिकायत है तो मूह खोलो
    सामने वाला भी इंसान है तुम्हारे जैसा
    बना लिया है मॅन अगर तोड़ने तुड़वाने का
    तो होते हैं कौन हम बदलने वाले तुम्हारा फ़ैसला.

    - साची राजीव


    #mirakeenetwork #pod #relationships #hindipoetry #poetry #writerstolli #wds #writedilse #readwriteunite #poet #rwu #writersnetwork #hindiwriters #hindipoem
    @writedilse @writerstolli @hindiwriters

    Read More

    रिश्ते

    कुछ रिश्तों से हुई पचान
    कुछ रिश्तों के ना थे नाम
    कुछ थे मतलब से भरे
    गायब हुए जब निकल गया काम. .....

    - साची राजीव