• anjalitushir 37w

    आसाँ नही होता ,
    खुद से बेदिली , किसी से दिलग्गी करना,
    पर इश्क़ है ये,
    यहाँ वो भी हो जाता है जो कभी सोचा नहीं होता,
    यहाँ राते भी सुबह सी होती है,
    यहाँ हर ख्याल की जमीं भी, नीलाम होती है
    यहाँ हकीकत नींदे छीन लेती है,
    और
    दुनिया हकीकत छीन लेती है।

    #writersnetwork #pod #anjalitushir
    #bombgang_committee #hks
    @hindiwriters
    @hindikavyasangam

    Read More

    यूँ जो जुगनुओं की तरह हम जागा करते है,
    जाने किस महताब को हर रात ढूंढा करते है।

    ©anjalitushir