• neerajupadhyay 5w

    इश्क.....

    किसी ने पूछा की सच्ची मोहब्बत क्या है.....
    मैंने कहा इबादत के वक्त उसका नाम याद आना ही शायद सच्ची मोहब्बत है.....
    तो उसने कहा...क्या तुम्हारी इबादत कुबूल हुई.....
    मैंने कहा मेरी इबादत तो रोज कबूल होजाती है जब में सुबह उठ कर उसका चेहरा देखता हु.....
    वो हँसा...और कहने लगा के लोग पागल क्यों होजाते हे इस इश्क में.....
    मैंने कहा कभी किसी चीज को शिद्दत से चाहना और जब वो तुमको ना मिले तो फिर ये बात पूछना.....
    वो गुस्सा हुआ... और कहने लगा कि फिर क्यों प्यार में लोग मरते है.....
    अब में हँसा... और कहा के लोग अक्सर मुश्किल समय में आसान रास्ता ही चुनते है.....
    वो नजाने क्यों गले लगा कर रोने लगा.....
    मैंने उसके सर पर हाथ रखा और कहा चुप होजा इश्क में अक्सर ये होता है.....

    ©neerajupadhyay