• alpdev_2516 13w

    हर बात पे धागे मोहोब्बत से ना जोड़िये,
    बचपन बोहोत अजीज़ सा लम्हा होता है,
    ज़रा यादों की गलियों की और,
    अपनी नज़रें तो मोड़िये।।
    ������

    Read More

    ये रातें..

    ये रातें काफ़ी तेज़ गुज़रने लगी हैं,
    लगता है,
    गर्मियाँ चौखट पर पोहोंच गयीं।।
    ©alpdev_2516