• nehulatagarg 6w

    अन्दर कमरे की दहलीज पर पहुंचते ही है की , औनियोन कहने लगते है - हम जानते है की , आप मलिका आहन्ना से मिलने गये थे लेकिन जब मैने आपको कह दिया था की , वो अभी अपने अबु के चलें जाने से मायूसी में है तो अभी उनसे मिलना या बात करना ठीक नहीं होगा । सुबह क्रैथेसियन आहन्ना का इंतजार कर रहें होते है लेकिन जब आहन्ना के आने की सूरत नहीं नजर आती तो वो आहन्ना से मिलने के लिये निकलने ही वाले होते है की , आहन्ना सामने दहलीज पर खडी नजर आती है और उन्हें देखकर खुशी से कहने लगते है - अच्छा हुआ जो आप आ गयी नहीं तो .. , नहीं तो आप पहुंच जाते तो इसीलिये हम चलें आयें । वैसे मन तो नहीं था लेकिन फिर सोचा इस तरह गमगीन बैठे रहने से अच्छा है की , आपसे मिला जायें और गुफ्तगूं की जायें तो शायद यह मायूसी थोडी कम हो जायें और आपकी बात भी हम तक पहुंच पायें तो बताइए कि , ऐसी कौनसी आफत आ गयी जिसने अपनी जद में आपके चेहरे का नूर आँखों की चमक होंठों की मुस्कुराहट और दिल का चैनों - सुकून ले लिया है और माथे पर यह शिकन ला दी है और कदमों में बेचैनी है कहीं पहुंचने की तो बताइए किस मंजिल की तरफ रूख करना चाहते है ? आप जिसके लिये आपको हमारी जरूरत आन पडी है तो क्रैथेसियन कहने लगते है - जब आप सबकुछ जान लेती है तो वजह भी जान ही गयी होंगी और वैसे भी पारखी नजरों से कुछ भी छुप सकता है क्या ?आहन्ना कहने लगती है - जब कोई हमारी तारीफ करता है तो हमें यह अहसास होता है की , अगर हममें कोई खूबी नहीं होती तो क्या हम किसी अहमियत के लायक नहीं होते तो औनियोन कहने लगते है मुस्कुराते हुए - आपकी मुंह से पहली बार बहुत अजीब बात सुनी है क्योंकि जो मलिका हर इंसान में कोई कमी नहीं ढूंढती फिर इस कमी के अहसास की बात समझ नहीं आयी तो आहन्ना कहने लगती है - हमारी वामा हमेशा एक बात कहा करती थी की , व्यक्ति की पहचान उसके खूबीयों से होती है इसीलिये इंसान को कभी भी इस बात पर गुरूर में नहीं आना चाहिये क्योंकि आपमें वो खूबीयां ना

    Read More

    चित्रांगना

    तो आपकी कोई अहमियत नहीं होती और इसीलिये नयी खूबीयां अपने अंदर लाइये क्योंकि एक इंसान सिर्फ़ उसकी खूबीयों से ही अपना एक खास मुकाम हासिल करता है तो इंसान से ज्यादा इंसान की खूबीयां अहमियत रखती है इसीलिये उन्हें ज्यादा जरूरी समझो । एफेसियस कहने लगते है - आपके घरवालों को पता था की , आपको इस दुनिया को बदलना जो है और एक मलिका बनना है इसीलिये तो उन्होंने आपको सब तरह से तैयार किया तो आहन्ना कहने लगती है - नहीं क्योंकि हमारे घरवालों के लिये इस तरह की बातें कोई मायने नहीं रखती और हम बहुत खुशकिश्मत है की , हमें ऐसा परिवार मिला और यहाँ भी हमें वही परिवार मिला है । खैर छोडियें इन सब बातों को हम यहाँ किसी मकसद से मिल रहें है तो हमें बिना वक्त गवायें उस पर बात करनी चाहिये तो क्रैथेसियन बताने लगते है आहन्ना को प्यार से देखते हुए - आपने ही कहा था ना की , हमें अब आगे की राह के बारे में सोचना है तो हमने सोच लिया है की , हम दोनों कहीं ऐसी जगह चलें जायेंगे जहाँ कोई हम तक पहुंच ना पायें ना कोई ढूंढ पायें और हम सुकून से वहाँ आराम से रह सकें और अपनी एक नयी जिंदगी शुरू कर सकें । हम अब आपको नहीं खोना चाहते है । अब कोई भी वजह हम दोनों के बीच नहीं आने देंगे हम ,जो हमें एक - दूसरे से अलग कर सकें बस हमने सोच लिया .. । क्रैथेसियन की अधीरता बढती जा रही थी और आहन्ना उन्हें शांत करती हुयी कहने लगती है - भागना है मगर कहाँ भागेंगे दुनिया के किसी भी कोने में लेकिन अगर वहाँ भी कोई खतरा हुआ तो फिर वहाँ से और इस तरह कब तक भागते रहेंगे हम ? हमारा घर अगर टूट जायें तो हम उसकी मरम्मत करते है ना की , उसे छोड़कर चलें जाते है और एक भगोडा वो होता है जो झूठा और मक्कार होता है और सच्चाईयों का सामना करने की हिम्मत नहीं रखता और ना कोई जिम्मेदारी उठाने के काबिल