• kavish_kumar 1w

    प्यार मोहब्बत से पहले उगाते हैं..

    फिर ले हाथ में कुल्हाड़ी काट डालते है..

    बिन स्वार्थ जो सब हम पर अर्पण करते हैं..

    और हम ठेकेदार बनकर,इनका कारोबार चलाते हैं..

    ©Aatish ��