• yatharth_with_mishra 15w

    "तुझ पे उठी हैं वो खोई हुई साहिर आँखें
    तुझ को मालूम है क्यों उम्र गँवा दी हमने.."

    ~ फ़ैज़ साहब