• chetak 5w

    विराम

    तेरे कहने पर बंद करते हैं हम
    यूं इकतरफा मोहब्बत के गीत गाना,
    पर याद में तेरी गर छोड़ गए हम ये जमाना,
    याद रखना, लौट न पाएगा ये आशिक़ तुम्हारा,
    मजार पर मेरे फिर कितने ही दिप जलाना।

    खुदा बस इतनी रहम करे मेरे यारा,
    तुझको न सता पाए कभी तन्हाई का अंधियारा।

    मोहनीष बोराणा
    ©chetak