• lalitt7691031298 5w

    रात देर तक तेरी दहलीज़ पर 
    बैठी रहीं आँखें, 
    खुद न आना था तो कोई 
    ख्वाब ही भेज दिया होता.....
    ©lalitt7691031298