• ankit_p 12w

    हाज़िर

    गर पछताये कभी वो हमे छोड़कर किसी गैर के खातिर,
    किस से करेंगे इल्तेजा,किस से करेंगे वो इस गम को ज़ाहिर,
    कोई जाकर उनसे कह दे,
    देखेंगे जब वो पलट कर तो हम वही मिलेंगे हाज़िर
    जँहा वो छोड़ कर गए थे उस गैर के खातिर ।
    ^√
    ©ankitpatni