• arunbhardwaj 5w

    मुझे शौक़ ने तोड़ा
    फिर शौक़ से सजाया
    मैं टूटा ही मुस्कुराया
    अब मुरझाने की बारी है

    Arun Bhardwaj (Atirek)