• rjdiary 33w

    #नशा

    निर्भया - : अहह.... आज बहुत काम हो गया थक गई हूँ। कोई नहीं आज ऑफिस का पहला दिन था न इसलिए । घर जाकर अब आराम करूँगी ।
    घर पहुँचते ही ....इन कानों में जोर-जोर की चीखें सुनाई दे रही थी ।
    मैं बहुत घबरा गई, न जाने क्या हुआ किसके घर हुआ , आवाज़े तो बाहर तक आ रहीं ।
    भगवान... कही मेरे घर न कुछ हुआ हो।
    नहीं नही प्रभु आज नहीं ।


    कमरे में जाते ही पापा एक कोने में जमीन पर पड़े थे।
    ये देख निर्भया घबरा गई । जब वो पास गई तो पापा जोर जोर से फिर चिल्लाने लग गए...क्या हुआ पापा
    कुछ बताओ मुझे ।

    पापा- : दूर हो जाओ मेरी नजरो से तुम सब नालायक हो , एक जैसे हो। कोई मुझे नही समझता....एक दिन तुम लोग को छोड़ कर चला जाऊँगा...।
    मुझे बार बार ये बताना पड़ेगा। आज मैंने ये किया , वो किया .....पैसे मैं कमाता हूँ तो जो मर्जी आए मैं वो करूँगा ।

    निर्भया- : बस करिये पापा आज आप बहुत पी लिए हो...
    इसलिए जो मन मे आए बके जा रहे हों ।

    पापा- : बोलूँगा...औऱ बोलूँगा , बोलो क्या करोगी ?

    निर्भया :- अब बस बहुत हुआ....अब अपने फिर से ऐसा वैसा कुछ किया तो मैं सब रिश्ते भूल जाऊँगी ।
    आप क्यों इतना नशा करते हो....आपको कुछ समझ नही होती मैं क्या बोल रहा हूं और किसे बोल राहा हूँ ।

    पापा:- आज मैं भी चुप नहीं रहूँगा, देखता हूँ कौन मेरा क्या कर लेगा।

    निर्भया:- गुस्से में लाल , औऱ उसे कुछ समझ नहीं आ रहा क्या करें । अचानक हम दोनों में हाथा बाई शुरू हुई और न जाने कब निर्भया ने पापा को थप्पड़ मार दिया।

    ये देखते ही....पापा सुन हो गए । औऱ बोले क्या इसी दिन के लिए मैंने तुम्हें पाल पोश कर बड़ा किया था।
    मेरे शराब पीने का ये शिला मिला मुझे ।
    दूर हो जाओ मेरी नजरों से .....। इतना कहकर पापा जमीन पर गिर गए ।

    निर्भया:- ये क्या हो गया मुझसे पापा, प्लीज मुझे माफ़ कर दो। माफ़ कर दो पापा ।
    अगर आप शराब न पीते तो ये सब नहीं होता ।
    माफ करो पापा गलती हो गई मुझसे । उठो पापा, मत पिया करो इतनी पापा ।


    कुछ देर बाद .....पापा कुछ बोलो पापा....
    2hr बाद.....पूरा घर उजड़ गया ।
    निर्भया के पापा का इन्तकाल हो गया।
    इस शराब ने सब कुछ छीन लिया मेरा
    -----------------------------------------------------------


    -राज नन्दिनी✍

    -28/2/18


    ©RjDiary