• vaibhavshukla 3w

    वो मेरा हाथ पकड़ नीचे आ नहीं सकती
    औकात रोक लेती है उसे, वो अमीर काफ़ी है
    मै उसके पैर पकड़ ऊपर चढ़ नहीं सकता
    खुद्दार हूं मुझे रोक लेने को ज़मीर काफी है


    ©vaibhavshukla