• ayush03raj 24w

    उनसे मिले मुद्दतें हुई
    आज हमारा लिपटना जायज़ है,
    ग़र गुफ्तगू-ए-वश्ल हुई
    उनका हया में सिमटना जायज़ है!
    -A. Raj