• soul_set_free 15w

    ||..बात शाम की..||

    जीने का खयाल भी अच्छा नहीं लगता
    इसलिए शाम अब हमारी मैखानों में गुजरती हैं ।
    ✍साक्षी
    ©soul_set_free