• nawal_ 28w

    शिकायते ना करो सियासतदानों की
    ये सल्तनत हमने ही बख्शी है उन शक्सियतो को