• upen4418 16w

    Antivirus

    समझो या रहो बेखबर हमारे लब्जो से
    गर रुठी रही यूं ही मुझसे
    तो लिख जायेगी कई नज्मे तुझे मनाने मे
    ©upensingh