• kavithajain 6w

    मां कि बेटियाँ

    मां बहुत दुखियारी दो
    बेटीयो कि शादी करानी

    एक छोटा सा परिवार
    दुसरो से न कोई साहारा

    बेटीयो से इतना प्यार करती
    पुरी जान अपनी लुटाती

    आंख मे आसु और अकेलापन
    दिन बीतते जा रहा है खालीपन

    मां कि आस अच्छे खानदान मे जाये
    सदा सुख रहे अपनी बेटियाँ

    दिल है बहुत कमजोर हिमत न रही
    वक्त बीत रहा बहुत उमर हो रही

    क्या करे मां और बेटियाँ हालात
    है बहुत कमजोर हर दिन न है राहत

    मां कैसे आंख मिला सकती लोगो से
    पूछते कब होगी बेटीयो कि शादी

    बेटियाँ मां के साथ खडी है न करो चीन्ता
    मा मेरे नसीब मे जो लिखा वही होगा

    काश ऐसा होता मा और बेटियाँ
    सदा एक साथ साथ खुश रहते

    मा और बेटियाँ बहुत खुश है
    जिदगी मे अचानक कोई टोक देता है

    जीना मुशकिल हो गया
    मां दुदते दुदते थंक सी गयी

    न हालात न कोई रासता
    न अपनी इच्छा न खुशीया

    करे तो क्या करे मां और बेटियाँ
    कैसे ताकत लाये जीने के लिए
    ©kavithajain