• sajal_17 5w

    कुछ कर दिखाना है!

    कुछ ऐसे कर के जाना है,
    छुप जाना या छप जाना है।
    पंख फैला उड़ जाना है,
    क्षितीज के उस पार कहीं तक,
    पहुंच सास फिर भरना है,
    कुछ काम बड़ा कर दुनिया को,
    कदमो में अपने झुकना है,
    जीवन का कोई लक्ष्य बड़ा हो,
    मुश्किलों का कोई पहाड़ खड़ा हो,
    हौसलों से उसे गिराना है,
    जिद तो है तुमसे मिलने की,
    सारा जग चमकना है,
    एक दिन हस्ते हस्ते हमको,
    मिट्टी में मिल जाना है,

    कुछ ऐसे कर के जाना है,
    छुप जाना या छप जाना है।

    -सजल
    ©sajal_17