• mayuresh 14w

    क्या मैंने कभी बताया है तुझे?
    दो दिन तुझसे दूर रहूं तो जीना मुश्किल लगता है।

    जब तू पापा को याद करे तो,
    मुझे चिंता सताती है तेरी।

    मेरी आंखें रो पड़ती है,
    बस तुझे मेरे लिए मेहनत करते देख।

    मेरा देर रात से घर आना,
    और तुझे जगता देख घबरा जाता हूं मैं।

    क्या मैंने कभी बताया है तुझे?
    तू मां नहीं दुनिया है मेरी।

    अपना पेट काटकर,
    खाना खिलाया है तूने।

    बुखार में मुझे सुलाकर,
    खुद जगी है तू कई रात तक।

    कैसे शुक्रिया करूं मैं तेरा?
    तू मां नहीं दुनिया है मेरी।

    तेरी एक डांट पापा की याद दिलाती है,
    तेरा एक बार गले से लगाना जन्नत का एहसास दिलाती है।

    तेरा मुझे समझाना,
    हर बार खाना खाने को मनाना,
    मेरे झूठ को एक बार में पकड़ना,
    मेरे ग़म में मुझसे ज्यादा दुखी होना।

    क्या मैंने कभी बताया है तुझे?
    तू मां नहीं दुनिया है मेरी।

    मेरी पहली दोस्त हैं तू,
    इश्क करना तूने सिखाया,
    कैसे करूं मैं नफरत किसी से,
    ज़मीं पे गिरे हुए को सीने से लगाना तूने सिखाया।

    क्या मैंने कभी बताया है तुझे?
    तू मां नहीं दुनिया है मेरी।

    @mayuresh

    #mirakee #writersnetwork #poc #love #mom #mother #mothersday #care #nights
    @writersnetwork @thereshamsharma @geraldine_mary @laughing_soul

    Read More

    माँ

    क्या मैंने कभी बताया है तुझे?
    दो दिन तुझसे दूर रहूं तो जीना मुश्किल लगता है।

    जब तू पापा को याद करे तो,
    मुझे चिंता सताती है तेरी।

    मेरी आंखें रो पड़ती है,
    बस तुझे मेरे लिए मेहनत करते देख।

    मेरा देर रात से घर आना,
    और तुझे जगता देख घबरा जाता हूं मैं।

    क्या मैंने कभी बताया है तुझे?
    तू मां नहीं दुनिया है मेरी।

    अपना पेट काटकर,
    खाना खिलाया है तूने।

    बुखार में मुझे सुलाकर,
    खुद जगी है तू कई रात तक।

    कैसे शुक्रिया करूं मैं तेरा?
    तू मां नहीं दुनिया है मेरी।

    तेरी एक डांट पापा की याद दिलाती है,
    तेरा एक बार गले से लगाना जन्नत का एहसास दिलाती है।

    तेरा मुझे समझाना,
    हर बार खाना खाने को मनाना,
    मेरे झूठ को एक बार में पकड़ना,
    मेरे ग़म में मुझसे ज्यादा दुखी होना।

    क्या मैंने कभी बताया है तुझे?
    तू मां नहीं दुनिया है मेरी।

    मेरी पहली दोस्त हैं तू,
    इश्क करना तूने सिखाया,
    कैसे करूं मैं नफरत किसी से,
    ज़मीं पे गिरे हुए को सीने से लगाना तूने सिखाया।

    क्या मैंने कभी बताया है तुझे?
    तू मां नहीं दुनिया है मेरी।


    ©mayuresh