• vishal03 6w

    बिछड़े तो ऐसे जैसे मिले ही नहीं थे
    क्या कभी हमारे दरमियान गिले-शिकवे नहीं थे
    इबादत है इतनी कि मुझे रुलाने के लिए आ
    एक बार फिर मुझे सताने के लिए आ
    अगर कुछ नहीं तो फिर से बिछड़ने के लिए आ..
    ©vishal03