• kavish_kumar 19w

    Child labour

    नन्ही जान के मन बड़े बिलखते हैं..
    नोटों की हवा नही, बस सिक्के खनकते हैं..
    किताबों के पर दो,करामात के लिए..
    हौसलों से निचोड़ेंगे,बादल बरसात के लिए..

    ©Aatish