• ssargam 22w



    तू मुझे गिराता रहा, आँखों से अश्क़ों की तरह।
    मैं तुझे सजाती रही, लबों पे मुस्कुराहट की तरह।।


    © SARGAM