• shashiinderjeet 16w

    #शायरी , (ग़ज़ल )

    लफ्ज़ उतरा जो ले कारवां अल्फाज़ का
    बंदिशों ने बांध उसे ग़ज़ल, नाम दे दिया
    ----------
    एक लफ्ज़ चाँद बन सितारों से जो मिला
    ग़ज़ल में बदल वो एक आसमान हो गया
    ---------
    दर्द -ए- कल्ब से निकल,लबों पे लफ्ज़ जो उतरे
    अल्फाज़ में बदल वो इक ग़ज़ल में ढल गये
    --'-------
    लब खुले अलीम के, लफ्ज़ मोती जो बन बिखरे
    पिरो के मैने उनको इक ग़ज़ल बना दिया

    ©shashiinderjeet
    #mirakee @mirakee #hks @hindikavyasangam #hindiwriters @hindiwriters

    Read More

    शायरी , (ग़ज़ल )

    लफ्ज़ उतरा जो ले कारवां अल्फाज़ का
    बंदिशों ने बांध उसे ग़ज़ल, नाम दे दिया
    ----------
    एक लफ्ज़ चाँद बन सितारों से जो मिला
    ग़ज़ल में बदल वो एक आसमान हो गया
    ---------
    दर्द -ए- कल्ब से निकल,लबों पे लफ्ज़ जो उतरे
    अल्फाज़ में बदल वो इक ग़ज़ल में ढल गये
    --'-------
    लब खुले अलीम के, लफ्ज़ मोती जो बन बिखरे
    पिरो के मैने उनको इक ग़ज़ल बना दिया

    ©shashiinderjeet