• laksha_singh 5w

    क्यों तुम्हारे साथ जीने की आदत हो गयी है मुझे,
    हाँ माना की खुश तो तुम भी नहीं हो
    पर शायद ये किस्मत का खेल है ,
    इसलिए तो तुम्हारी और मेरी राहे ना एक हैं ...
    ©laksha_singh