• 25sam25 15w

    ये कैसा महकता हुआ नशा है तेरे बदन के इत्र में,

    के अब साँस भी लूं,
    तो धड़कने रुक जाती हैं।

    ©25sam25