• kahaanikaar 3w

    बड़ा वक्त लगाकर उसके चहरे
    की एक झलक नसीब होती है,
    वो अकसर बादलों के पीछे छिप कर
    मुझे बहुत सताया करता है।
    इंतजार के जूए में आखिर वो भी
    न चाहते हुए हर सुबह हारता है।

    ©kahaanikaar