• ashutosh_bharti 24w

    दिल के ज़ज्बात के ऊपर कोई रचना,
    कोड़े कागज़ों पर तो उतर जाती है,

    लेकिन जिसके लिए ये लिखी जाती है,
    उसके दिल तक नहीं पहुँच पाती है..

    ~आशुतोष भारती