• tripathyss 6w

    ग़ुरूर

    जरूरतें तोड़ देतीं हैं इंसा के ग़ुरूर ग़ालिब
    न हों मजबूरियां तो हर बंदा खुद होता
    ग़ालिब