• seemak 38w

    जब भी कुछ लिखा है, तुझे याद किया है,
    ज़ख्म और मरहम का ये, नायाब रिश्ता रहा है।

    © सीमा