• shhabbd 14w

    कुछ यूँ जख्मे थे सबने परों को उसके

    की अब तो खुला आसमां भी मिल जाये तो क्या फायदा