• amitabh_pattnaik 6w

    वे घाव कभी नहीं भरते, जो अपनों की मेहरबानियों से मिलते हैं।