• sandhya_yadav 5w

    एक आँसू जो छलका इन आँखों से
    जज्बातों की गहराई कम हो गई
    मन था उदास मेरा
    एक चेहरे ने
    मुस्कुराहट ला दी इन होंटो पर
    भूल जाता हूँ गम सारे
    जब तनहाई में तेरा अहसास छूकर चला जाता है
    हम तो थे अंजान
    क्या पता था एक दिन ऐसा भी आएगा
    बस तेरे होने का एहसास दिल छू जाएगा