• abhishekmanukumar 6w

    कैसा लगता हैं तड़पना नींद में भी
    समझ गया, साहब!
    बेचैन आसूँओं से भरी आँखें कुछ तो कह रहे थे