• bharti17 6w

    इन ख्वाहिशो की भी ख्वाहिशो में बस्ते हो तुम,
    मुझे पता है, सब कुछ समझते हो तुम।
    यूहि नज़रे थोड़ी फेर लेते हो,
    झुकी नज़रो से ही सही, इश्क़ तो करते हो तुम।
    ©bharti17