• velle007 3w

    अपनी वाहियात बातों से उसके दिल को तार तार करते हो,
    अन्दर ही अन्दर वो बिलखती है, रोती है और पूरी तरह चकनाचूर हो जाती है,लेकिन फिर भी तुम्हारे साथ खड़ी रहती है, फिर भी तुम उसे बार बार चोट पहुंचाते हो,
    जब इन्तहा हो गई उसके दर्द की तो दूर जाने का फैसला लेना पड़ा नम आँखों के साथ,
    कमाल की बात तो ये है कि उसकी वफा समझने की जगह पूरे ज़माने के सामने उसे धोखेबाज़ बताते हो।
    ©velle007