• samarchouhan 5w

    ख्वाहिशे

    वो सारी अधुरी ख्वाहिशे जिदंगी की,
    पुरी हो जाती है, तुझसे मिलते ही।

    ©samarchouhan