• abhishekmanukumar 5w

    वो काफ़िर कुछ सुनता भी तो कैसे
    आँखें बोल रही थी, साहब!
    पर धड़कन रूक चुके थे