• amankeshri_1 14w

    Maa

    रात को जब मैं
    तकियों पे सर रखता हूँ
    बचपन की कुछ यादें
    मुझे ऐसे सता जाती हैं
    होंठो पे मुस्कान,
    आंखों में आंसू भर आती हैं।

    मखमल सी गोद में तेरी
    सर रख सोया करता था
    मधुर लोरी के साये में
    तारे गिनते रहता था।

    इतना दर्द दुख
    तू कैसे सह जाती है
    माँ बस इतना बता
    तू इतना प्यार
    कहा से लाती है। ❤️

    ©akshri