• disha_choudhary 5w

    तुझे पाने की तलब कुछ ऐसी थी,
    कि पता भी न चला , और हम खुद को भूल गए।