• shayar_ka_khaab 5w

    क्यो तो छोड़ गया उस राह में
    जहा अकेली में नही ज़िंदगी थी