• acrystalgirl 38w

    क्यों

    जिस उम्र में मुझे , उसे ज़िंदगी के कागज़ पे रंगो से खुशियाँ भरने की राह दिखलानी चाहिए
    न जाने क्याें वो उस उम्र में मुझे परखना चाहता हैं
    न जाने क्यों वो मेरी कहानी मेरे आसुआे से लिख रहा हैं
    न जाने क्यों मुझे अपने आसुआे काे खुशियाें में मुतबदिल करना पड़ता हैं
    न जाने क्याें उसके लिए इन आसुआे का काेई माेल नहीं हैं ।
    ए खुदा क्या गुनाह हैं मेरा ..........



    ©acrystalgirl