• shashankara 15w

    मैने देखी थी तुममे
    अपने बदलाव की गुंजाइश,
    मैं तो अब भी वैसा हूँ
    पर तुम बदल गये
    मुझको बदलते-बदलते।।

    -शशाँक