• farzishayar 24w

    3/4

    गुलशन को थी तलब पानी की एक रोज़
    आसमान आग बरसा, गुलों को चिराग़ कर गया।

    ©farzi.shayar