• nitishshukla 15w

    जिंदगी शायद इतनी सरल नही !

    Read More

    जिंदगी

    दूर उस डाल पर बैठी एक चिड़िया देखी मैने,
    बहुत शांत और सुंदर,
    नीले पंख, नारंगी सी लंबी चोंच.
    न जाने किस फूल का रस चखा था,
    जो इतनी मधुर आवाज़ थी।
    मन ने कहा अहा! कितनी सुंदर रचना है प्रकृति कि I
    सहसा वह उड़ी ज़मीन कि तरफ तेज़ी से।
    नीचे धरातल पर बेखबर था एक गिरगिट।
    उसने उसे धर दबोचा अपनी लंबी चोंच में,
    और जा बैठी वापिस उसी डाल पर।
    मैं झिझक उठा।
    क्या रुप र्सिफ दिखावा था ?