• sharib 5w

    तु किसी रेल सी गुज़रती है

    और मैं किसी पूल सा ठहरता हू