• sunnythakur 15w

    Shayari

    कितना बेबस है इंसान किस्मत के आगे;
    कितना दूर है ख्वाब हकीकत के आगे;
    कोई रुकी हुई सी धड़कन से पूछे;
    कितना तड़पता है यह दिल मोहब्बत के आगे।